By Alok Verma Indian voters have never failed in rewarding or punishing the Indian political dispensation when it comes to using their franchise power. It is the political dispensation which misjudges the sentiments of Indian voters. The party in power always surrounds itself with power brokers and abusers leading to absolute deafness towards the voices […]

Read More →

आलोक वर्मा लोगों का #उत्तरप्रदेश में अजब मिज़ाज है अगर कुछ हो तो भी नाराज़ और न हो तो भी नाराज़। अब #गोरखपुरमहोत्सव भी सुर्खियों में है और उसकी तुलना #सैफई गांव महोत्सव से हो रही है जो कि #मुलायम-अखिलेश-शिवपाल का गाँव है। जाति का उल्लेख ठीक नही है फिर भी सभी जानते है कि बाहुल्य किसका है। सरकारी और प्राइवेट जेट्स […]

Read More →